Uses of flowers in hindi, फूलों के औषधीय गुण, वैज्ञानिक नाम

आज हम जिस टॉपिक के बारे में बात करने वाले हैं उसका नाम है Uses of flowers in hindi आपने अक्सर देखा होगा कि जब भी हमारे घर में कोई मांगलिक कार्य और शुभ कार्य किए जाते हैं तो उसमें हम पूजा पाठ एवं सजावट में फूलों का उपयोग जरूर करते हैं क्योंकि फूल हमें प्रकृति से जोड़े रखते हैं साथ ही फूल पवित्र होते हैं और सुगंधित भी होते हैं, इस समय फूलों के विभिन्न प्रकार से उपयोग किए जा रहे हैं जो फूल हम मंदिर में चढ़ाते हैं उन फूलों को सूखने के बाद पाउडर के रूप में बना लिया जाता है एवं इससे धूपबत्ती बनाई जाती है।

फूल हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्व रखते हैं आज कल फूलों की खेती भी की जा रही है जिससे अनेक प्रकार के उद्योगों को बढ़ावा भी मिल रहा है आज हम आपको फूलों के कुछ प्रमुख उपयोग बताएंगे साथ ही हम आपको कुछ फूलों के बारे में भी बताने वाले हैं एवं उनके औषधीय गुणों को भी बताने वाले हैं तो हमसे जुड़े रहिये और अपने ज्ञान में वृद्धि करते रहिए।

फूलों के कुछ प्रमुख उपयोग | Phoolon ke Upyog in Hindi

भगवान को चढ़ाने में – फूल बहुत ही पवित्र माने जाते हैं इसी कारण से आपने अक्सर देखा होगा कि फूलों को भगवान पर चढ़ाते हैं। विभिन्न प्रकार के फूल होते हैं जो अलग – अलग रंग के होते हैं साथ ही अलग – अलग खुशबू वाले होते हैं पुराने समय में जब सेंट, परफ्यूम का जमाना नहीं था था तब लोग फूलों का उपयोग खुशबू के लिए भी करते थे।

घर को सजाने में – आपने अक्सर देखा होगा कि जब भी हमारे घर पर कोई भी शुभ कार्य होता है तो हम अपने घरों को सजाने के लिए सबसे ज्यादा फूलों का उपयोग ही करते हैं क्योंकि फूल दिखने में तो सुंदर होते ही हैं साथ ही बहुत पवित्र होते हैं और उनसे अच्छी खुशबू भी आती है। यदि आप किसी भी शुभ कार्य में फूलों से सजावट नहीं करते हैं तो आपके घर की सजावट में वो मजा नहीं आता जो कि फूलों की सजावट में होता है। फूल से सजावट करने पर आपके घर की सुंदरता में चार चाँद लग जाते हैं।

दवाई बनाने में – प्राचीन काल से हमारे ऋषि मुनियों ने उपचार के लिए पेड़ – पौधों का उपयोग किया था और अभी भी करते आ रहे हैं। ऋषि मुनियों ने बहुत से पेड़ – पौधों के औषधीय गुणों का वर्णन हमारे वेद, पुराणों सहित अन्य प्राचीन ग्रंथों में किया है।

अतः फूलों का उपयोग हम औषधि के रूप में करते थे और आजकल फूलों से दवाइयां भी बनाई जाती हैं हमारे आसपास भी कुछ ऐसे ही महत्वपूर्ण पेड़ पौधे होते हैं जिनके फूलों में बहुत से औषधीय गुण पाए जाते हैं जिनके बारे में हमें पता नहीं होता है अतः हमें अपने आसपास के पेड़ पौधों के बारे में और उनके औषधीय गुणों के बारे में जरूर पता होना चाहिए।

गार्डन में पेड़ – पौधे – अक्सर आपने देखा होगा कि लोग अपने घर के आस-पास गार्डन बनाते हैं और उसमें बहुत से पेड़ पौधे लगाते हैं और उनमें ऐसे पेड़ पौधे लगाए जाते हैं जोकि छोटे होते हैं जिनमें फूल होते हैं अतः बेफूल घर की शोभा बढ़ाते हैं साथ ही भगवान जी को चढ़ाने के काम भी आते हैं। सभी लोग यह चाहते हैं कि प्रकृति से जुड़े रहे अतः इसी कारण भी कुछ लोग अपने घर के आस-पास गार्डन बनाते हैं एवं खुशबू वाले और सुंदर फूल लगाते हैं इस प्रकार हम प्रकृति को भी बढ़ावा दे रहे हैं।

बढ़ते हुए शहरीकरण के कारण पेड़ पौधों की कटाई की जा रही है अतः व्यक्ति को बहुत अधिक मात्रा में नुकसान हो रहा है जिस कारण से अनेक प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो रही है अतः हमें पेड़ पौधों को लगाने पर ध्यान देना चाहिए इसीलिए भी कुछ लोग गार्डनिंग को ज्यादा महत्व देते हैं।

स्वागत के लिए माला बनाने में – यदि आप छात्र हैं या फिर कभी छात्र रहे हो तो आपने शिक्षक दिवस के दिन जवाब माला पहनाकर अपने अध्यापकों का स्वागत जरूर किया होगा क्या आप जानते हैं कि हम माला क्यों पहनाते हैं जब भी हम किसी का स्वागत करते हैं या उसका सम्मान करते हैं तो उस सम्मान के रूप में हम उस व्यक्ति को माला भेंट के रूप में प्रदान करते हैं या फिर उनको माला पहनाते हैं और यह तब किया जाता है जब वह व्यक्ति कुछ अच्छा काम करते हैं।

अक्सर आपने देखा होगा हम शिक्षकों को माला पहनाते हैं, सैनिकों को माला पहनाते हैं और डॉक्टरों को माला पहनाते हैं साथ ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिन्हें हम माला पहनाते हैं और उनका सम्मान करते हैं।

Read more – Water Uses In Hindi, Save Water, पानी का सदुपयोग कैसे करें?

फूलों के नाम (Names of Flowers in Hindi) | Flowers name in hindi and english

  • चांदनी का फूल ( Crape Jasmine )
  • गुलाब का फूल (Rose Flower)
  • कमल का फूल (Lotus Flower)
  • मोगरा का फूल ( jasminum Sambac Flower )
  • गेंदे का फूल (Marigold Flower)
  • चम्पा का फूल ( Magnolia Flower )
  • चमेली का फूल (Jasmine Flower)
  • कुमुदनी का फूल ( Lily Flower )
  • रजनीगंधा का फूल (Tuberose Flower)
  • सूरजमुखी का फूल (Sunflower Flower)
  • कनेर का फूल (Kaner Flower)
  • पलाश ( ढाक ) के फूल ( Beutea monosperma or Flame of the forest )

चांदनी का फूल ( Crape Jasmine ) – चांदनी के फूल का वानस्पतिक नाम Tabernaemontana Divaricata Linn है। इसके पेड़ के कुछ अन्य नाम भी प्रचलित हैं तगर, चांदनी, अनंता इत्यादि इसके पौधे से प्राप्त आक्षीर का उपयोग सर दर्द में, फूलों और कलिकाओं का उपयोग आँखों के दर्द में किया जाता है।

गुलाब का फूल (Rose Flower) – गुलाब के फूल का वैज्ञानिक नाम रोजा हाइब्रिडा है। गुलाब के फूल में भी बहुत से औषधीय गुण होते हैं जैसे की कील मुंहासे दूर करने में मददगार, वजन कम करने में सहायक, थकान दूर करने में सहायक, लू से बचाने का काम भी करता है साथ ही लाल गुलाब  ऊर्जा प्रदान करने का काम करता है।

कमल का फूल (Lotus Flower) – कमल का फूल हमारा राष्ट्रीय ध्वज इसका वैज्ञानिक नाम नेलंबो न्यूसिफेरा गार्टन है। इसके कुछ प्रमुख औषधीय गुण हैं जैसे – सफेद बालों को दूर करने में सहायक है, रूसी की परेशानी को दूर करने में सहायक होता है।

मोगरा का फूल ( jasminum Sambac Flower ) – मोगरा के फूल का नाम तू है जैसा कि आप सभी जानते हैं मोगरा के फूल को खुशबू के लिए जाना जाता है और उसके साथ साथ यह इसका उपयोग महिलाएं खूबसूरती बढ़ाने के लिए भी करती हैं और यह स्किन के लिए भी काफी फायदेमंद होता है यह फूल नेचुरल एंटीसेप्टिक के रूप में भी कार्य करता है और यह स्किन के लिए ग्लोइंग मोस्ट राइजिंग और एंटी एजिंग का कार्य करता है।

गेंदे का फूल (Marigold Flower) – गेंदा के फूल का वैज्ञानिक नाम टेगेट्स ( Tagetes ) है। इसके फूल तने और पत्तियों में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जोकि कैंसर सेल्स को नष्ट करने में काफी मददगार होते हैं, इसमें अनेक प्रकार के गुण भी पाए जाते हैं इसमें ट्यूमर वृद्धि को रोकने के गुण भी पाए जाते हैं इसमें दाद, खाज, खुजली एवं अनेक प्रकार की त्वचा के दाग धब्बे के साथ-साथ अन्य स्किन प्रॉब्लम भी इसके प्रयोग से दूर की जा सकती हैं।

चम्पा का फूल ( Magnolia Flower ) – चंपा के फूल का वैज्ञानिक नाम MICHELIA है इसके औषधीय गुणों में शामिल है सिर दर्द, कान दर्द को दूर करना एवं अन्य आंखों की बीमारियों को दूर करना और मूत्र रोग से संबंधित परेशानियां पथरी एवं बुखार में भी इसका प्रयोग किया जाता है। कई बार ऐसा होता है कि हमारे पेट में दर्द होता है और पेट में कीड़े भी हो जाते हैं तो ऐसी परेशानी को दूर करने में भी चंपा का उपयोग किया जाता है।

Uses of flowers in hindi, कुछ विशेष फूल एवं उनके औषधीय गुण

चमेली का फूल (Jasmine Flower) – चमेली के फूल का वैज्ञानिक नाम Jasminum है साथ ही इसे कुछ अन्य गुण भी हैं इसकी खुशबू अत्यधिक मनमोहक होती है इसलिए इसकी खुशबू तनाव के समय मूड बूस्टर का काम करती है। और तनाव और अनिद्रा जैसी परेशानियां भी इसके उपयोग से दूर होती हैं इसका प्रयोग अरोमाथेरेपी में भी किया जाता है।

कुमुदनी का फूल ( Lily Flower ) – कुमुदिनी के फूल का वैज्ञानिक नाम लिलियम ( Lilium ) है। सफेद कुमुदिनी के फूल पर हिंदू मान्यता के अनुसार विद्या की देवी श्री सरस्वती जी विराजमान होते हैं अतः सफेद कुमुदिनी के फूल का उपयोग उनकी पूजा में किया जाता है।

रजनीगंधा का फूल (Tuberose Flower) – रजनीगंधा के फूल का वैज्ञानिक नाम Polianthes Tuberosa है। रजनीगंधा के फूल से तेल और इत्र भी बनाने का काम होता है रजनीगंधा के फूल का उपयोग माला और गुलदस्ता बनाने के लिए भी किया जाता है।

सूरजमुखी का फूल (Sunflower Flower) – सूरजमुखी के फूल का वैज्ञानिक नाम Helianthus annuus है। सूरजमुखी के तेल के उपयोग से बाल मजबूत होते हैं, अस्थमा में राहत होता है, कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए भी सूरजमुखी के तेल का उपयोग किया जाता है।

कनेर का फूल (Kaner Flower) – कनेर के फूल का वैज्ञानिक नाम Nerium Oleander है। कनेर के फूल का लेप बनाकर बवासीर व कुष्ठ रोग में लगाने से लाभ मिलता है। साथ ही इसके पत्तों का रस पिलाने से सांप और बिच्छू का जहर भी कम होता है। सफेद या लाल कनेर के फूल को गाय के पेशाब में मिलाकर लगाने से दाद भी ठीक होता है।

पलाश ( ढाक ) के फूल ( Beutea monosperma or Flame of the forest ) – पलाश के फूल का वैज्ञानिक नाम Butea Monosperma है। पलाश के फूल के अंदर डायबिटीज को नियंत्रित करने के गुण पाए जाते हैं, साथ ही बार – बार प्यास लगने की परेशानी को कम करना, कफ पित्त कम करने इत्यादि गुण भी पलाश के फूल में पाए जाते हैं।

हम आशा करते हैं कि हमारी ये पोस्ट Uses of flowers in hindi आपको जरूर पसंद आई होगी, यदि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप हमें कमेंट सेक्शन में कमेंट करके जरूर बताएं साथ ही अपने दोस्तों को शेयर करना ना भूले और हमें Facebook, Instagram, Twitter में फॉलो करें।

धन्यवाद

Leave a Comment